Sunday , May 26 2019

भारत की आरोही ने रचा इतिहास, अटलांटिक ओशियन पार करने वाली पहली महिला बनी

मुंबई की रहने वाली 23 साल की कैप्टन आरोही पंडित लाइट स्पोटर्स एयरक्राफ्ट (एलएसए) में अकेली अन्ध महासागार (अटलांटिक महासागर) को पार करने वाली दुनिया की पहली महिला बन गई हैं.

सोमवार-मंगलवर को अपने छोटे से एयरक्राफ्ट के साथ 3000 किलोमीटर की दूरी तय करके वह इकालुइट हवाईअड्डे पर उतरीं. अपनी इस यात्रा के दौरान वह ग्रीनलैंड और आइसलैंड में भी रुकी थीं. आरोही की इस उपलब्धि से उनका परिवार, दोस्त और ऐविएशन सर्किल के लोग खुश हैं.

इस सफर को प्रायोजित करने वाली संस्था सोशल एसेस के मुखिया लियन डीसूजा ने कहा, ‘यह उनकी एक साल से पहले शुरू की वैश्विक जहीज योजना का हिस्सा है, जो उन्होंने अपनी दोस्त केथर मिसक्वेटा के साथ 30 जुलाई को लांच की थी. वह 30 जुलाई 2019 को भारत लौटेंगी.’

लिन ने कहा, ‘इस दौरान वह एलएसए में ग्रीनलैंड को पार कर एक और विश्व रिकॉर्ड अपने नाम कर ले गई हैं. साथ ही जब तक वह भारत लौटेंगी तब वह कई अन्य रिकॉर्ड भी अपने नाम कर लेंगी.’

पाकिस्तान में जहाज लैंड कराने वाली पहली महिला

आरोही एलएसए लाइसेंस धारक है. उन्होंने जहाज ‘माही’ में अपनी दोस्त कैथर के साथ भारत से उड़ान भरी थी. माही एक छोटा से सिंगल इंजन साइनस 912 जहाज है जो 400 किलोग्राम से थोड़ा ज्यादा है.

आरोही और कैथर ने पंजाब, राजस्थान, गुजरात के ऊपर से उड़ान भरी और पाकिस्तान पहुंचीं, जहां उन्होंने अपना जहाज उतारा. इसी के साथ वह 1947 के बाद पड़ोसी मुल्क में एलएसए जहाज लैंड कराने वाली पहली नागरिक बनीं.कनाडा हवाईअड्डे पर पहुंचने के बाद आरोही ने तिरंगा झंडा फहराया, जो कनाडा में भारत के राजदूत विकास स्वरूप ने उन्हें सौंपा.
मुंबई में आरोही के इतिहास लिखने का इंतजार कर रहे लोगों से कहा, ‘मैं बेहद सम्मानित और खुश महसूस कर रही हूं कि मैं अपने देश के लिए ऐसा कर पाई और ऐसा कर पाने वाली पहली महिला बनी. अटलांटिक महासागर के ऊपर से जाना बेहद शानदार अनुभव रहा. वहां सिर्फ मैं, छोटा सा प्लेन और नीला आसमान था और नीचे नीला समंदर.’

About Voice of Muslim

SUPPORT US

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com