Saturday , September 21 2019

भारतीय तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज अपने माँ बाप के साथ उमराह के लिए हुए रवाना

रमज़ान के मुकद्दस महीने में सऊदी अरब के पवित्र शहर मक्का मदीना में दुनिया भर के मुसलमान उमराह के लिए जा रहे है। हैदराबाद तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज भी उमराह की अदायगी के लिए हैदराबाद से मक्का मदीना के लिए रवाना हो गए। सिराज उमराह के लिए अपने माँ बाप के साथ मक्का मदीना की पवित्र यात्रा पर रवाना हो गए । बता दे, सिराज गरीबी में पले बढ़े है और उनके पिता ऑटो चालक है। उन्होंने गरीबी में से निकलकर यहाँ तक जो सफर तय किया है उसमें उनकी कड़ी मेहनत के साथ साथ उनके माँ बाप की दुआएं भी है ।

मोहम्मद सिराज क्रिकेट की दुनिया में अपने शहर और अपने परिवार का नाम रोशन कर चुके है। सिराज भारतीय टीम में खेल चुके है और वह आने वाले समय में भारतीय टीम की बॉलिंग अटैक की मुख्य कड़ी हो सकते है। उन्होंने अपने छोटे से कैरियर में सभी का दिल जीता है। बता दे, रमज़ान का मुक़द्दस महीने चल रहा है। इस महीने में दुनिया भर के मुसलमानों की यह इच्छा होती है कि वह मुसलमानों के सबसे पवित्र शहर मक्का मदीना में इस माह में कुछ दिन या पूरा महीना बिताए। बता दे, इस पवित्र महीने में मक्का मदीना में रहमतों की बारिश होती है, इस महीने में उमराह करने वाले शख्श को हज का सवाब मिलता है ।

यहाँ पर खूबसूरत नजारा देखने को मिलता है, इस माह में नेकियों की तादाद बड़ा दी जाती है और इस महीने के लिए पूरी दुनिया भर में ख़ासकर मक्का मदीना में खास इंतेजाम किए जाते है। मोहम्मद सिराज हैदराबादी तहजीब में नज़र आए। उनका और उनके माता पिता का फोटो सोशल मीडिया पर देखते ही देखते तेजी से वायरल हो गया। बता दे, ऑटो रिक्शा चलाने वाले पिता के बेटे सिराज क्रिकेट कि दुनिया में सनसनी फैला चुके है। वह हैदराबाद के बंजारा हिल्स में एक कमरे में रहते थे। पिता ऑटोचालक थे, पिता की कमाई से खर्चा मुश्किल से चलता था ।

माँ शबनम की इच्छा थी कि बच्चे पढ़ाई लिखाई करे और परिवार का नाम रोशन करे और उन्हें गरीबी से निज़ात मिले। लेकिन कुदरत को कुछ और ही मंजूर था, सिराज को क्रिकेट खेलना पसंद है। बताते चले, सिराज सातवीं क्लास में थे तभी उन्हें इंटर स्कूल क्रिकेट टूर्नामेंट में चुना गया था। उनकी टीम टूर्नामेंट जीत गई लेकिन टीम से बाहर हो गए। हालांकि क्रिकेट में सिराज के लिए कैरियर बनाना कोई आसान काम नही था। उन्हें अक्सर अपने पिता और माँ से डांट खानी होती थी। सिराज की माँ चाहती थी सिराज भी उनके बड़े बेटे की तरह सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनें ।

लेकिन सिराज का तो क्रिकेट में ध्यान लग चुका था, वो अब कहा मानने वाले थे। सिराज को क्रिकेट से और ख़ासकर तेज़ गेंद फेंकने से बहुत प्यार था। उनकी गेंदों से विपक्षी बल्लेबाज खेलने से डरते थे। हैदराबाद के बंजारा हिल्स में सिराज अपनी तेज गेंदबाजी से प्रसिद्ध थे । उन्होंने 2015 से पहले कभी क्रिकेट गेंद से गेंदबाजी नही की थी । उनके एक दोस्त उन्हें क्लब क्रिकेट में लेकर गए। वहाँ उन्हें खेलने का मौका मिला। सिराज ने शुरुआती मैच में ही विपक्षी बल्लेबाजों को धराशयी कर सनसनी फैला दी। उनका यही से क्रिकेट का नया अध्याय शुरू हुआ। वह जूनियर क्रिकेट खेलते हुए भारतीय टीम तक पहुँचे ।

मोहम्मद सिराज के घर पर विराट कोहली और RCB टीम पहुँची
मोहम्मद सिराज के घर पर विराट कोहली और RCB टीम पहुँची

सबसे पहले सिराज को अंडर-23 में जगह मिली। इसके बाद उन्होंने रणजी में अपनी जगह पक्की की। हालांकि उन्हें हैदराबाद की ओर से 2015-16 में केवल 1 ही रणजी मैच खेलने का मौका मिला लेकिन उन्होंने हिम्मत नही हारी। सिराज ने रणजी के अगले सीज़न में 41 विकेट लेकर अपनी टीम को क्वाटर फाइनल तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई। उन्हें इसी प्रदशन की बदौलत ईरानी ट्रॉफी में खेलने का मौका मिला। उन्हें आईपीएल में सनराइजर्स हैदराबाद ने 2.6 करोड़ में खरीदा ब।इसके बाद सिराज अभी कोहली की टीम आरसीबी में है ।

About Voice of Muslim

SUPPORT US

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com