Thursday , July 18 2019

नए अध्यक्ष के सवाल पर बोले राहुल- मैं इस प्रक्रिया में शामिल नहीं, पार्टी ही करेगी फैसला

भोपाल की नवनिर्वाचित भाजपा सांसद और मालेगांव ब्लास्ट केस की आरोपी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को एनआईए की विशेष अदालत से झटका लगा है. मुंबई में विशेष एनआईए अदालत ने उनका एक सप्ताह में एक बार उपस्थित होने से स्थायी छूट के आवेदन को खारिज कर दिया है. प्रज्ञा ठाकुर ने छूट के लिए आवेदन देते हुए कहा था कि वह सांसद हैं और उन्हें दिन-प्रतिदिन संसद में भाग लेना होता है. हालांकि कोर्ट ने सिर्फ आज (20 जून) के लिए अदालत में पेशी से छूट दे दी है. आपको बता दें कि मालेगांव ब्लास्ट केस में भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर को सप्ताह में एक बार मुंबई में एनआईए की विशेष अदालत में पेशी के लिए जाना होता है.

यह था मामला

मालेगांव में ब्लास्ट 29 सितंबर 2008 में हुआ था. ब्लास्ट के लिए बम को मोटर साइकिल में लगाया गया था. इस ब्लास्ट में सात लोग मारे गए थे और 100 से अधिक लोग घायल हुए थे. प्रारंभ में घटना की जांच महाराष्ट्र पुलिस की एटीएस ने की थी. बाद में मामला जांच के लिए एनआईए को सौंप दिया गया. एनआईए ने अपनी जांच में यह पाया कि घटना की साजिश अप्रैल 2008 में भोपाल में रची गई थी. जबकि 24 अक्टूबर, 2008 को इस मामले में स्वामी असीमानंद, कर्नल पुरोहित और प्रज्ञा ठाकुर को गिरफ्तार किया गया था. तीन आरोपी फरार दिखाए गए थे.

प्रज्ञा ठाकुर की गिरफ्तारी का आधार ब्लास्ट में उपयोग की गई मोटर साईकिल थी. यह मोटर साईकिल उनके (प्रज्ञा ठाकुर) नाम रजिस्टर्ड थी. प्रज्ञा ठाकुर लगभग नौ साल जेल में रहीं. बहरहाल, अप्रैल 2017 में साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को सशर्त जमानत मिल गई.

अब तक पांच को मिली जमानत

मालेगांव ब्लास्ट मामले में कुछ दिन पहले बॉम्बे हाईकोर्ट में हुई सुनवाई में चार आरोपियों को जमानत दे दी गई. जिन चार लोगों को हाईकोर्ट से जमानत मिली है उनमें लोकेश शर्मा, धन सिंह, राजेंद्र चौधरी और मनोहर नारवरिया शामिल हैं. कोर्ट ने चार आरोपियों को 50 हजार के मुचलके पर जमानत दी है. जबकि इस मामले में बीजेपी सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर को पहले ही जमानत मिल चुकी है.

About Voice of Muslim

SUPPORT US

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com