Thursday , July 18 2019

राहुल गांधी की सराहना में रॉबर्ट वाड्रा ने लिखा फेसबुक पोस्ट, बताया बेहद साहसिक और जमीनी नेता

लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की करारी हार के बाद से राहुल गांधी के लिए समय अच्छा नहीं चल रहा है। हार की जिम्मेदारी लेते हुए उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष पद से भी इस्तीफा दे दिया। उन्हें खुद भी अमेठी सीट से हार का सामना करना पड़ा। हालांकि ऐसे मुश्किल समय में उनकी पार्टी के नेता उनके साथ हैं और उन्हीं के नेतृत्व में आगे बढ़ना चाहते हैं। अब जीजा रॉबर्ट वाड्रा ने भी अपना समर्थन उनके लिए जाहिर किया है।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के पति और सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा ने फेसबुक पर राहुल के समर्थन में लिखा है, ‘राहुल, मुझे आपसे सीखने को बहुत कुछ मिला है। हमारे देश में लगभग 65 प्रतिशत युवा (45 साल से कम उम्र के) हैं, जो आपके मार्गदर्शन में विश्वास रखते हैं। आपने अपने बेहद साहसिक और दृढसंकल्पित व्यक्तित्व का परिचय दिया है। आपका जमीनी स्तर पर काम करने का और देश की जनता से और करीबी से जुड़ने का निश्चय बहुत ही सराहनीय है। आपके इस कदम में मैं आपके साथ हूं क्योंकि जनसेवा किसी पदवी की मोहताज नहीं होती।’

राहुल, मुझे आपसे सीखने को बहुत कुछ मिला है। हमारे देश में लगभग 65 प्रतिशत युवा (45 साल से कम उम्र के) हैं, जो आपके…

Gepostet von Robert Vadra am Freitag, 12. Juli 2019

इससे पहले प्रियंका गांधी ने भी राहुल गांधी के इस्तीफे पर प्रतिक्रिया देते हुए उनकी तारीफ की थी। उन्होंने कहा था, ‘आपने जो किया है, ऐसा करने का साहस कुछ दिखाते हैं, आपके निर्णय के प्रति गहरा सम्मान।’

राहुल गांधी ने अपने इस्तीफे के साथ 4 पन्नों का लेटर भी ट्विटर पर पोस्ट किया, जिसमें उन्होंने अपनी दिल की बात रखी।

उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस पार्टी की सेवा करना मेरे लिए सम्मान की बात है। कांग्रेस के मूल्यों एवं आदर्शों ने देश के निर्माण में बड़ी भूमिका निभाई है। 2019 के लोकसभा चुनाव में मिली हार के लिए मैं पार्टी अध्यक्ष के रूप में जिम्मेदार हूं। भविष्य में पार्टी की बेहतरी के लिए जवाबदेही अहम है। इसी के चलते मैंने कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा दिया है।’राहुल ने इस लेटर में लिखा, ‘मेरी लड़ाई केवल राजनीतिक सत्ता के लिए नहीं रही। भाजपा के लिए मेरे मन में गुस्सा और नफरत नहीं है। भाजपा के साथ हमारी लड़ाई नई नहीं है। बल्कि विचारों की यह लड़ाई हजारों वर्षों से इस धरती पर लड़ी गई है। 2019 का चुनाव हमने किसी एक राजनीतिक दल के खिलाफ नहीं लड़ा बल्कि हमारी लड़ाई देश की समूची सरकारी मशीनरी से थी। यह स्पष्ट हो गया है कि देश में हमारी संस्थाओं की निष्पक्षता अब नहीं रह गई है।’

About Voice of Muslim

SUPPORT US

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com