Sunday , November 17 2019

क्या इस्लाम में लव मैरिज शादी जायज़ है या नहीं

आज के वक्त में लव मैरिज काफी आम हो चुकी है। आज के जनरेशन के लोग अपनी पसंद से शादी करने को ज्यादा मा’न्य’ता देते हैं। लेकिन इस्लाम धर्म में लव मैरिज करने को सही बताया गया है या गलत। आइए आज हम आपको इस बारे में बताते हैं इस आर्टिकल में आप इससे जुड़ी सारी जानकारी हासिल कर पाएंगे।

लव मैरिज को लैकर हमारे मन मे कई सवाल रहता है ये जायज़ है या हराम। सभी के मन मे ये सवालात रहता हैं। आज हम आपको इन्ही सवालातो के जवाब देने की कोशिश करेगे कि इस्लाम मे लव मैरिज हराम हैं या नहीं। दरअसल इस्लाम मे लव मैरिज की इज़ाजत हैं लेकिन उनमे कई शर्त हैं। जो हम मे से कई लोगो को नही पता है।

आज हम आपको इन्ही सभी बातो पर गौर करते है लेकिन आज कल जो हमारे मुयाशरा मे चल रहा हैं वो हरगिज़ हलाल नही हैं। आजकल हमारे मुयाशरे का जो हाल है शादी से पहले लड़का लड़कियों का मिलना, आउटिंग करना और फोन पर घंटो-घंटो बाते करना ये सब हमारे इस्लाम मे कोई जगह नही है। इसमें इसकी सख्त मनाही है।

ये सभी चीजे हमारे इस्लाम मे हराम है तथा कुछ तो भाग कर शादी कर लेते हैं। ये भी जायज़ नही है। इस्लाम मे भाग कर शादी कयने को भी जायज़ नही कहा गया है। माँ बाप को दरकिनार कर शादी करना इस्लाम मे हराम करार दिया है क्योंकि इस्लाम मे माँ बाप का बहुत बड़ा मुकाम है।

लेकिन इस्लाम ने बहुत सी चीजों को समझ तथा शादी करने के लिए लड़के अपनी बीवियों को पसदं कर सकती है। लड़कियां अपने शौहरो को चुन सकती है। इस्लाम ने इन सभी बातों को समझा है तथा लड़के लड़कियां अपने मनपसंद साथी चुन सकते है। अगर आपको कोई लडकी पसंद आए तो आप उस लडकी के घर खबर भिजवा सकते है। घर वालो की रज़ामंदी से खुशी खुशी शादी कर सकते हैं।

इसके आलावा हमारे इस्लाम ने शादी से पहले लड़कें लड़कियों को आपस मे मिलने का भी हुक्म दिया गया है। लेकिन इसमें एक ये शर्त है कि आप के साथ तीसरा आदमी भी हो इस बाबत हदीस भी है। रसुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के एक सहाबी से रिवायत है कि मुगैयरा बिन शोबा रजि अल्लाहु अन्हा बयान करते है कि मैने एक नेक औरत से मंगनी की तो प्यारे नबी करीम ने फरमाया उसे देख लो ये तुम दोनों के लिए बेहतर होगा।

आज हमारे मुयाशरे मे बहुत बेशर्मी फैल गई है। लड़के लड़कियां आपस मे खुले आम मिलते जुलते है। आउटिंग करते थे तो कभी किसी के साथ त़ो कभी किसी के साथ घूमते फिरते है, पर निकाह नही करते है। इस्लाम ने इन सभी बातो को हराम करार दिया है। लेकिन इस्लाम की परवाह किए बगैर आज खुले आम दुनियाभर मे इस तरह की बेशर्मी भरे काम हो रही है।

About Voice of Muslim

SUPPORT US

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com