Wednesday , September 19 2018

जब एक मजदूर के घर अफ्तार करने पहुंचे तुर्की के सदर

इफ़्तार से चंद मिनट पहले तुर्की की दारूल हुकूमत अंकारा के एक गरीब इलाके में मौजूद एक मजदूर के घर की घंटी बजती है घर के मालिक 53 साला यलदरम जलैक जब दरवाजा खोलकर देखते हैं तो उनके हैरत का कोई ठिकाना नहीं रहता उन्हें अपनी आंखों पर यकीन ही नहीं आता और देखते हैं कि दरवाजे पर मुल्क में सदर रजब तैयब उरदगान और उनकी बीवी सैयदा अमीना उरदगान खड़े हैं

यलदरम जलैक की हैरत को भांपते हुए तुर्क सदर उन्हें तसल्ली देकर कहते हैं कि आज हम आपके मेहमान हैं आपके परिवार के साथ इफ्तार करेंगे यह सुनकर मेजबान खुशी से फूले नहीं समाते वह फौरन वापस जाकर अपने घरवालों को यह खुशखबरी देते है कि एक बहुत बड़े मेहमान की आमद है गरीब यलदरम के परिवार ने अपने हैसियत के मुताबिक इफ्तार का मामूली इंतजाम कर रखा था घर के आठ अफराद दस्तरख्वान पर बैठे थे और इफ्तार के लिए खजूर पानी दूध और संतरा के अलावा दस्तरखान पर और कुछ नहीं था इसलिए परिवार के चेहरों पर अजीम मेहमान की आमद पर खुशी के साथ-साथ परेशानी के आसार भी नुमाया थे मगर तुर्क सदर और उनकी बीवी बिला किसी तकलीफ के यलदरम के अहले खाना के साथ दस्तरखान पर बैठ कर दुआ में मशरूफ हो गए यलदरम के अहले खाना को भी यकीन नहीं आ रहा था कि मुल्क का सदर और उनकी बीवी उनके घर में मौजूद और उनके साथ इफ्तार में शरीक है

नाकाबिल यकीन मंजर देखकर यलदरम और उनकी परिवार की आंखों से खुशी के आंसू निकल आए यलदरम और उनके परिवार ने सदर और उनकी बीवी को खुले दिल से खुशामदीद कहा तुर्की प्रेस के मुताबिक अंकारा के इलाके को एक सब्जी मंडी में मेहनत मजदूरी करते हैं यलदरम जलैक और उन्हें हर दिन 60 लैरा तुर्की करेंसी मजदूरी मिलती है जो कि 22 अमेरिकी डॉलर के बराबर हैं यलदरम जलैक के घर में तुर्क सदर के आने बाद यह भी मालूम हुआ कि वह किराए के मकान में रहते हैं जिस का किराया 1 महीने का 360 लैरा अदा करते हैं जोकि 135 अमेरिकी डॉलर होता है
इफ्तार के बाद सदर और उनकी बीवी यलदरम के अहले खाना के साथ घुलमिल गए और उनसे उनके मसाइल भी पूछे यलदरम ने सदर को बताया कि उनके 5 बच्चे हैं क्योंकि उनकी कमाई बहुत थोड़ी है इसलिए मैं अपने बच्चों को सरकारी स्कूलों में तालीम दिलवा रहे हैं दिलचस्प बाते हैं कि पांचवें रोजे के दिन इफ्तार के वक्त सदर उरदगान के यलदरम के मेहमान बनने पर इसी दिन यलदरम सबसे छोटे बेटे का पहला रोजा था इस मौके पर अचानक मुल्क के सदर की आमद ने यलदरम के अहले खाना की खुशियों को दोगुना कर दिया सदर ने पहला रोजा रखने पर यलदरम के बच्चे को नगद इनाम के साथ कीमती तोहफे भी दिए जिस पर यलदरम के बाकी बच्ची सदर के दिये तोहफे को देख रहे थे तो उन्होंने घर के दिगर बच्चों को भी एक-एक लैपटॉप और टैबलेट दिया इफ्तार के बाद यलदरम के घर से रुखसत होने से पहले उनके पड़ोसियों को भी खबर लग गई कि मुल्क का सदर उनके पड़ोस में आया है इसलिए यलदरम के बहुत सारे पड़ोसी भी उनके घर में जमा हो गए और सदर के साथ ईशा की नमाज तक लंबी बातचीत की और अपने-अपने मसले से आगाह किया

इस दौरान Recep Tayyip Erdoğan के सिकरेट्री समेत कुछ सरकारी अधिकारी भी यलदरम के घर पहुंच चुके थे तुर्क प्रेस के मुताबिक रजब तैयब एर्दोगान और उनकी बीवी अपनी पहली इफ्तारी तुर्की में बने रिफ़्यूजी कैम्प जिसमें सीरिया के बच्चे हैं उनके साथ इफ्तार किया उन्होंने गरीब और अमीर का फर्क मिटाकर मुल्क में गरीबों के घर इफ्तार करने का मामूल बना लिया है अब तक वह इफ्तार के वक्त 5 मर्तबा गरीबों के घर मेहमान बनकर उनके साथ इफ्तार में शरीक हो चुके हैं सदर और उनकी बीवी इफ्तार से कुछ देर पहले अपनी गाड़ी में सदारती महल से निकलकर शहर के किसी भी गरीब इलाके में निकल जाते हैं जहां वह किसी भी शहरी के घर दरवाजे की घंटी बजाते और अहले खाना के साथ मिलकर इफ्तार करते हैं इसी दौरान सदर उरदगान अहले खानां से उनके मसाइल पूछकर उन्हें हल भी करते हैं

Nadeem Akhtar

About Voice of Muslim

Voice of Muslim is a new Muslim Media Platform with a unique approach to bring Muslims around the world closer and lighting the way for a better future.
SUPPORT US

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com