Sunday , March 24 2019

LITERATURE

शांति का अभिनंदन

नफरत की मौत और मोहब्बत की नई जिंदगी का अभिनंदन सिसकती अशांति के अंधेरों में पैदा होती शांति के उजाले की किरण का अभिनंदन अभिनंदन नई सुबह का जिसने अंधेरे छांट दिये जिसने विध्वंस टाल दिये मौत की उड़ान भरती नफरत की सियासत के पंख काट दिये अभिनंदन जिन्दगी का …

Read More »

जंग ना होने देंगे, हम जंग ना होने देंगे !!

जंग ना होने देंगे, हम जंग ना होने देंगे !! हमें चाहिए शांति, ज़िन्दगी हमको प्यारी  हमें चाहिए शांति, सृजन की है तयारी ! हमने छेड़ी जंग भूख से बीमारी से, आगे आकर हाथ बढाए दुनिया सारी, हरी भरी धरती को खुनी रंग न लेने देंगे ! जंग न होने …

Read More »

फर्क सिर्फ इतना है!

सभी इन्सान है मगर फर्क सिर्फ इतना है! कुछ जख्म देते है,कुछ जख्म भरते है!! हमसफर सभी है मगर फर्क सिर्फ इतना है! कुछ साथ चलते है,कुछ छोड जाते है!! प्यार सभी करते है मगर फर्क सिर्फ इतना है! कुछ जान देते है, कुछ जान लेते है!! दोस्ती सभी करते …

Read More »

भारत के पहले मुस्लिम राष्ट्रपति बने डॉ ज़ाकिर हुसैन

8 फ़रवरी, 1897 में हैदराबाद, आंध्र प्रदेश के धनी पठान परिवार में भारत के तीसरे राष्ट्रपति डॉ ज़ाकिर हुसैन का जन्म हुआ. महज 10 साल की उम्र में अपने पिता और 14 साल की उम्र में अपनी मां को खो देने वाले जाकिर हुसैन के जिंदगी का सफर आसान नहीं …

Read More »

सीबीआई की साख को खा गई एक माँ की आह

मां की बददुआ तलवार से भी ज्यादा तेज होती है मां की दुआओं का असर होता है तो बद्दुआएं भी खाली नहीं जातीं। दिल्ली के जेएनयू का लापता छात्र नजीब की जुदाई में रोती-बिलखती उसकी मां की आह सीबीआई की साख को खा गयी। दिल्ली के इस नौजवान की संदिग्ध …

Read More »

जंगे-आज़ादी के नायक अशफाक उल्ला खान

देश की गुलामी की जंजीरों को तोड़ने के लिए हंसते-हंसते फांसी का फंदा चूमने वाले अशफाक उल्ला खान जंग-ए-आजादी के महानायक थे।अंग्रेजों ने उन्हें अपने पाले में मिलाने के लिए तरह-तरह की चालें चलीं लेकिन वे सफल नहीं हो पाए। स्वतंत्रता संग्राम पर कई पुस्तकें लिख चुके इतिहासकार सर्वदानंदन के …

Read More »

सलीम-अनारकली की प्रेमकथा सबसे मंहगी फ़िल्म मुगल- ए-आज़म को अमर बना दिया के. आसिफ ने

हाल ही में यासिर अब्बासी की किताब प्रकाशित हुई है, ‘ ये उन दिनों की बात है’ जिसमें उन्होंने पुरानी उर्दू पत्रिकाओं में छपे नामचीन फ़िल्मी हस्तियों के अपने साथियों पर लिखे लेखों और आपबीती को प्रकाशित किया है. उन्हीं में से एक थे मशहूर निर्देशक के आसिफ़ जिन्होंने मुग़ल-ए-आज़म …

Read More »

बिना दहेज वाली “बहू” का किस्सा : सुन कर रोना आ जायेगा । ये है इस्लाम

एक 15 साल के भाई ने अपने पापा से कहा “पापा पापा बाजी (बड़ी बहन) के होने वाले ससुर और सास कल आ रहे है” अभी जीजाजी ने फोन पर बताया। बाजी (अप्पी) मतलब उसकी बड़ी बहन की सगाई कुछ दिन पहले एक अच्छे घर में तय हुई थी। दीन …

Read More »

अटल जी के जन्मदिवस पर आडवाणी जी का दर्द बयां करती मेरी कालजयी रचना

बेवफा छोड़कर वो घोसला उड़ने के क़ाबिल हो गया,  बेवफाओं में अब उसका नाम शामिल हो गया। शाख़ तक जाना चहकना मैंने सिखलाया जिसे, वो परिन्दा आसमां जाने के क़ाबिल हो गया। फूस के इक झोंझ में रहता था वो महफूज था, मौज की लालच में वो नादान ग़ाफिल हो …

Read More »
SUPPORT US

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com